27 मई 2018

तान्त्रिक ग्रन्थ



 तन्त्र साधनाओं से संबंधित प्रामाणिक ग्रन्थों के लिये 
संपर्क करें:-

परावाणी आध्यात्मिक शोध संस्थान
श्री चण्डी धाम
अलोपी देवी मार्ग
प्रयाग
211006
फोन - 9450222767




-: ग्रन्थ सूची :-

• Aagmokt Yoga Sadhana 10.00
• Aapdudharak Shri Batuk Bharav Stotra 10.00
• Adbhut Durga Saptshati 100.00
• Adbhut Durga Saptshati(Havanatmak) 100.00
• Adhyatma Yoga 5.00
• Aghor Mat Ka Nirupan 25.00
• Akashaya Vat 5.00
• Alop Shankari Devi 5.00
• Anand Lahari 15.00
• Babashri Charitamrit 30.00
• Badari-Vishal-Valabha 5.00
• Bagala-Nityarchan 40.00
• Bagala-Sadhana 35.00
• Baghvat Dharma Ka Pracheen Itihas 15.00
• Baghvati Manas-Puja-Stotra 10.00
• Baghvati Shatak 5.00
• Bala-Kalpataru 35.00
• Bala-Khadag-Mala 15.00
• Bala-Stava-Manjari 25.00
• Bhakti-Yoga 5.00
• Bharavi-Chakra-Pujan 6.00
• Bhavani Sadhana 15.00
• Bhuvneswari-Stava-Manjari 20.00
• Bihar Ke Devi Mandir 8.00
• Bihar Mein Shakti Sadhana 15.00
• Chakra Puja Ke Stotra 25.00
• Chinna-Masta Nityarchan 20.00
• Dakaradi Shri Durga-Sahastranam 20.00
• Dash Maha-Vidya Ashtotar-Shat-Nam 30.00
• Dash Maha-Vidya Ashtotar-Shat-Namavali 30.00
• Dash Maha-Vidya Gayatri, Dhyan avom Stuti 30.00
• Dash Maha-Vidya Kavach 30.00
• Dash Maha-Vidya Mantra-Sadhana 30.00
• Dash Maha-Vidya Tantra 60.00
• Dhan-Prapti Ke Prayog 10.00
• Dharma-Charcha 10.00
• Dharma-Marg Par 25.00
• Dhyan avom Pranam Mantra 20.00
• Dhyan-Yoga avom Vichar-Yoga 5.00
• Diksha-Prakash 35.00
• Dipawali Ki Puja-Vidhi 15.00
• Dipawali Visheshank 45.00
• Divya Yoga 6.00
• Durga Kalpataru 15.00
• Durga Saptshati (Beejatmak) 6.00
• Durga Saptshati (Padyanuvad) 15.00
• Durga Saptshati (Vishudh-Sanskaran) 25.00
• Durga-Aarti 2.00
• Durga-Sahas-Nam-Sadhana 5.00
• Ganga-Yamuna-Sarasvati Puja Ank 5.00
• Gayatri Kalpataru 30.00
• Guru Tantra 10.00
• Guru-Tatva-Darshan avom Guru Sadhana 15.00
• Hath-Yoga 5.00
• Hindi Kamakhaya Tantra 50.00
• Hindi Kaulvani-Nirnaya 25.00
• Hindi Kularnava Tantra 50.00
• Hindi Maha-Nirvana Tantra 80.00
• Hindi Prana-Toshini Tantra 75.00
• Hindi Shaktanand-Taragini 15.00
• Hindi Tantra-Sara 250.00
• Hinduo Ki Pothi 25.00
• Holika-Mahima evom Pujan-Vidhi 5.00
• Homage To Ancestors (Pitra-Puja)
• Kali Nityarchan 15.00
• Kali-Karpoor-Stav (Savidhi) 6.00
• Kapalik Uvach 10.00
• Kashmir Ki Vaicharik Parampara 10.00
• Kaul Kalpataru 20.00
• Krishna Sadhana 25.00
• Laghu Chandi 10.00
• Lalita Peeth-Prayag 5.00
• Lekh-Sangrah(Swami Divyanand Ji) 5.00
• Maha-Chinachar-Sara-Tantra 20.00
• Maha-Ganapati-Sadhana 35.00
• Maha-Shakti-Pitha-Vindhyachala 20.00
• Maha-Vidya-Stotra 20.00
• Manas Ke Sidh Stotra 10.00
• Mantra-Kalpataru 70.00
• Mantra-Kosha 200.00
• Mantra-Sidhi Ka Upaya 6.00
• Mantratmak-Saptshati 500.00
• Mantra-Yoga 5.00
• Mool Chakrarchan 15.00
• Mudrayaien evam Upachara(Sachitra) 20.00
• Mumuksha Marg(Part 1) 15.00
• Mumuksha Marg(Part 2) 80.00
• Narvana-Yantra-Pujan-Vidhi 5.00
• Nava-Graha-Sadhana 50.00
• Navaratra Visheshank 100.00
• Navaratra-Puja-Padhati(Vadik) 3.00
• Nishkam-Yoga avom Karm-Sanyasa Yoga 10.00
• Panch-Makar Tatha Bhava-Traya 20.00
• Panch-Makar Visheshank 100.00
• Parayan Vidhi 6.00
• Parshuram Tantra 10.00
• Prana-Toshini Tantra (Sarg & Dharm-Kand) 50.00
• Puja-Rahasya 100.00
• Raj-Yoga 5.00
• Rama-Parayana 35.00
• Sadhak Ka Sanvad 25.00
• Sadhana-Rahasya 40.00
• Sampadak Ke Sansmaran 50.00
• Santan-Sukha-Prapti Ke Prayoga 6.00
• Saptshati-Sukta-Rahasaya 40.00
• Saptshati-Tatva 30.00
• Sarth Chandi (Shri Durga Saptshati) 250.00
• Sarth Saundarya-Lahari 75.00
• Satra-Divasiya Saptshati-Path 35.00
• Saundarya-Lahari (Padyanuvad) 10.00
• Saundarya-Lahari Ke Yantra-Prayog 20.00
• Savidhi ShriRudra-Chandi 8.00
• Shabar-Mantra Sangrah(12 parts) 380.00
• Shakt Dharma Kya Hai? 15.00
• Shat-Chakra evom ‘Kundalani Sadhana’ 35.00
• Shat-Chandi-Vidhan 25.00
• Shiv-Shakti-Visheshank 40.00
• Shodash Lakshami Shri Lalita Puja 25.00
• Shri Chakra-Rahasya 20.00
• Shri Lalita-Trishti 35.00
• Shri Sukt-Vidhan evam Prayoga 25.00
• Shri Tripura Mahopanishad 6.00
• Shri Vidya-Saparya-Vasana 100.00
• Shri Vidya-Stotra-Panchkam 35.00
• Shri Yantra-Sadhana 10.00
• Swara-Vigyan 45.00
• Tantra Kalpataru 100.00
• Tantrokt Shabd-Brahma-Sadhana 40.00
• Tara-Kalpataru 35.00
• Tara-Stava-Manjari 20.00
• Tatva Vivechan 3.00
• Vaidik Devi-Puja Padhiti 5.00
• Vaidyanath-Dham-Mahatamaya 35.00
• Vigyan-Yoga 5.00

36 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. Sir mujhko sabrmantra shangrah ki rs380 ki jo kitab haiy vo mangvaniye hay to kya karu

      हटाएं
  2. मैं उपरोक्त पुस्तके प्राप्त करना चाहता हूँ. क्या ये हिंदी में है. क्या आप पोस्ट से भेज देंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  3. मैं उपरोक्त पुस्तके प्राप्त करना चाहता हूँ. क्या ये हिंदी में है. क्या आप पोस्ट से भेज देंगे.satyaastro1945solution@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. परावाणी आध्यात्मिक शोध संस्थान
      श्री चण्डी धाम
      अलोपी देवी मार्ग
      प्रयाग
      211006
      फोन - 9450222767
      www.paravani.org

      sampark kar len

      हटाएं
    2. श्रीमान अनिल जी,
      नमस्कार । आपकी वेबसाइट मै access नहीं कर पा रहा हूँ । कृपया बताये कि प्राण तोषिणी हिंदी में उपलब्ध है । धन्यवाद विनय वर्मा

      हटाएं

    3. www.chandidham.com its new site for Chandi Patrika please see all books and order now.

      परावाणी आध्यात्मिक शोध संस्थान
      श्री चण्डी धाम
      अलोपी देवी मार्ग
      प्रयाग
      211006
      फोन - 9450222767

      हटाएं
  4. aap ke pass 52 beer siddhi ke liye beer kankan mantra ki koi kitab hai

    उत्तर देंहटाएं
  5. anil ji mere pass kuch manter hai or mene jaap bhi kiya the or uska utar bhi turan milta hai to y bataye k kiya hum kali vidya bina guru k kar sakte hai kitab k help se ?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Dear Pankaj,

      kali vidya bhi guru banakar hi karna behtar hoga.

      meri vyktigat ray yah hai ki aap kali vidya ke marg par na badhen. kuch siddhiyan aaap avshya prpt kar lenge par apke dwara kiye gaye galat karmon ka fal apki ane vali 7 peedhiyon tak ko bhugatna padega.

      isliye ap bahut soch samajh kar kali vidya vale marg par badhen

      हटाएं
  6. Dear Anilji
    Maine apna guru Bhagwan Hanuman ko bana rakha hai, aur me unki sewa pooja karta hoon, kya mujhe mantra jaap ke liye alag se koi guru banana hoga, IS bare me mere marg darshan kare, main kisi aur ko guru banana nahi chahata hoon, kripya karke mujhe hanumnaji ki veer sadhna vidhi aur panchmukhi hanuman kavach ka prayog musibat me kaise kare bata kar mujhe kritarth kare, kripya kare aap mere is mail ka jawab jaroor de, main aap ke jawab ka wait karoonga.

    dhanyawad

    उत्तर देंहटाएं
  7. Pranam Anilji

    Main aap se kuch jankari chahata hoon, maine Bhagwan Hanumanji Ko apana guru maan rakha hai, aur main unki sewa pooja karta hoon, kya sadhna ke liye alag se guru banane ki jarurat hai, kyun ki main inke atirikt kisi aur ko guru nahi banana chahata hoon kyunki acha guru milna bahut mushkil hai

    kya aap mujhe hanumanji ki veer sadhana ke bare me batayenge aur musibat me panchmukhi hanuman kavach ka prayog kaise kare bata kar mujhe kritarth kare, main aap ke jawab ka wait karunga

    Dhanyawad

    उत्तर देंहटाएं
  8. sir i have listen about sabar mantra that they do not give fruit without guru so what is its use .and why any one should purchase book if some one have no guru.

    उत्तर देंहटाएं
  9. is there any menthod to get success over sabar mantra without guru .please tell me

    उत्तर देंहटाएं
  10. dear shekhar ji,

    do you have a book named as "kali stav manjari" or "kali stuti manjari" published by perhaps "chandi prakashan, prayag" ?

    उत्तर देंहटाएं
  11. Resptd. Anil Ji,

    I want to go forward on sadhna path. In current scenario its rare to find a siddha guru that can show a true sadhna marg. I have no Guru margdarshan till now. Its a hope that you will help me out.

    Kindly tell me how can i take guru diksha from Pujya Shri Guru Shrimali ji. kindly provide complete detail, i'll be thanksful to you.

    Jai Shri RAM

    उत्तर देंहटाएं
  12. anil ji mai kaali maha mantra black hakik k mala s karta hu per mujko jada jankari nahi hai

    उत्तर देंहटाएं
  13. mai tantrek banana chahata hu kya ap mujai tantres bana sakate ho

    उत्तर देंहटाएं
  14. Sri Man Ji,

    Me Shuru Se hi Tantra Mantra Me Ruchi Rkhta Hoon.. Mere Paas Guru Bhi He.. Lekin Confuse Hoon K Iss Raste pe Chloo ke naa..

    Or Agar Chalna he to Basic Sadhna Kon C Hogi.. Kripya Btaye k Fresher k liye kya Sikhna Sahi Hoga...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. rajiv,

      ap apne guru se sampark kare agr ap tantra marg age jana hahte hai kyuki guru ke sanidhya me hi koi bhi sadhna ki jati hai apke guru kud apko bataenge ki kya galat hai kya sahi so trust your guru kyuki guru hi sari safalta ke pradata hai.

      हटाएं
  15. साघना के लिए क्या क्या

    उत्तर देंहटाएं
  16. I want to buy SABAR MANTRA SANGRAHA, Rs.380/-.Please inform me the procedure.
    My email ID - hira_lal1975@rediffmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  17. I want to buy SABAR MANTRA SANGRAHA, Rs.380/-.plz rell me about the procedure for purchace my email id is
    sandeshupp@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  18. वी0 पी0 पी0 द्वारा पुस्तकें मँगाने हेतु नियम -
    1. वी0 पी0 पी0 द्वारा पुस्तकें मँगाने पर डाक खर्च लिया जाएगा।
    2. पाँच सौ रु0 से अधिक मूल्य की पुस्तकें वी0 पी0 पी0 द्वारा मँगाने पर डाक खर्च नहीं लिया जाएगा।

    रजिस्ट्री अथवा कोरियर द्वारा पुस्तकें मँगाने हेतु नियम
    1. रजिस्ट्री अथवा कोरियर द्वारा पुस्तकें मँगाने हेतु पुस्तकों का कुल मूल्य रजिस्ट्री खर्च (कोरियर व्यय) बैंक-ड्राफ्ट अथवा बैंक द्वारा भेजना होगा।
    2. बैंक द्वारा पुस्तकों का मूल्य भेजने हेतु एकाउट नं0 इस प्रकार है-
    http://chandidham.com/book-store/
    एकाउण्ट - ‘कल्याण मन्दिर प्रकाशन’
    नम्बर - 20436344095
    प्थ्ै कोड़ - ।स्स्। 210611
    बैंक - इलाहाबाद बैंक
    शाखा - अलोपी बाग
    जिला - इलाहाबाद
    http://chandidham.com

    उत्तर देंहटाएं
  19. क्यों होते हैं तंत्र मंत्र रहस्यमय

    शास्त्रों में तंत्र के संबंध में जो कुछ कहा गया है, वह सांकेतिक ज्यादा है। लेकिन जो कहा है, उसमें दो बातें मिलती हैं-एक साधना का फल और दूसरा विधि का कोई छोटा-सा अंश। विधि विधान संकेतों में बताए गए हैं। किस मनोभूमि का मनुष्य, किस समय, किन उपकरणों द्वारा, किन मंत्रों से क्या प्रयोग करें, वह सब उस संकेत सूत्र में छिपाकर रखा गया है।

    छिपाया इसलिए है कि अनाधिकारी लोग उसका प्रयोग न कर सकें। और कहा इसलिए गया है कि उस तथ्य का विस्मरण न हो जाय। विद्या का आधार मालूम रहे। अपनी साधना और उसके विधि विधान को गुप्त रखने का एक आध्यात्मिक कारण भी है। साधना की प्रसिद्धि जब दूसरों में फैलती है, तो साधक का यश फैलना भी स्वाभाविक है।

    इस सम्मान से साधक के मन में अहंकार की प्रवृत्ति जागती है, जो साधक के लिए अत्यन्त घातक सिद्ध होती है। यदि साधक इस स्तर पर पहुंच गया हो कि वह अपने तप की पूंजी से दूसरों को भी लाभाविन्त कर सकें, तो उसकी आत्मिक गिरावट की आशंका भी दिखाई देने लगती है।

    कारण स्पष्ट है- उसकी चर्चा सुनकर लोग अपनी इच्छाओं और कामनाओं को पूरा कराने के लिए उसके पास पहुंचने लगते हैं। यदि किसी को किसी प्रकार लाभ हुआ है, तो वह साधक को सिद्ध पुरुष घोषित कर देता है। साधक को भी अपनी सफलता पर प्रसन्नता होती है। अब वे उलझन में फंस जाते हैं। यदि किसी को निराश लौटना पड़ा, तो उनके सम्मान को धक्का लगेगा।

    सबकी आशाओं की पूर्ति करने लगें तो अपनी आत्मिक सम्पत्ति हो जाएगी, जिसे पूरा करने के लिए भारी तपस्या करनी होगी। साधना के दौरान दूसरों पर जरा निर्भर नहीं होना चाहिए। भोजन, वस्त्र और आवास आदि के साथ दिनचर्या के सभी काम अपने आप करना होता है। यहां तक कि अपने बिस्तर और आसन आदि बिछाने से लेकर उनकी सफाई तक खुद करना पड़ती है। अपने शरीर के लिए थोड़ी भी सहायता दूसरों से ली गई तो साधना भ्रष्ट होने की सम्भावना रहेगी, क्योंकि जो दूसरों की सेवा ग्रहण कर रहे हैं, न जाने वह कैसा है?

    मानसिक निर्माण उस अन्न पर निर्भर करता है। कुलार्णव तंत्र में स्पष्ट है- यस्यान्नेन तु पुष्टांगों पर होमं समाचारेत्। अन्नदातु फलस्यार्ध चार्धं कर्तुर्न संशयः॥ -कुलार्णव तंत्र अर्थात - दूसरे व्यक्ति की सेवा का आश्रय लेकर किए गए तप, हवन करने वाले साधक को उसका आधा फल ही मिल पाता है, उसका आधा तो अन्न देने वाले को मिलता है।'' साधना को प्रकट करने में हानि ही हानि परिलक्षित होती है, क्योंकि उससे अहंकार का पोषण होता है। इसे आध्यात्मिक मार्जन का शत्रु माना जाता है।

    जब तक अहंकार मन में निवास करता है, तब तक साधना में प्रगति रुकी रहती है। अतः यह पुष्ट न होने पाए, इसके लिए तंत्र-शास्त्रों में कड़े नियम निर्धारित किए गए हैं, उनमें प्रमुख है-अपनी साधना का किसी पर प्रकट न करना। जब जनसाधारण को यह पता चल जाता है कि यह व्यक्ति तांत्रिक साधक है, तो उसी दिन उस साधक की मृत्यु मान लेनी चाहिए।'' इसलिए साधक की भलाई इसी में है कि वह अपनी साधना का ढोल न पीटे, वरन उसे छिपाकर रखे तभी वह अंत तक उसके निर्विघ्न संचालन में सफल हो पाएगा

    उत्तर देंहटाएं
  20. डिअर सर,,,
    क्या आपके पास अष्ट यक्षिणी सिद्धि के बुक्स मिल सकती है,
    जिसमे यक्षिणी सिद्धि के बारे में विस्तृत जानकारी हो।
    जैसे- यक्षिणी साधना के लाभ हानि नियम विधि सावधानीया इत्यादि,
    अगर आपके पास ये avilable हो तो कृपया मुझे मेल करे,
    धन्यवाद
    Rahulkurre39@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  21. • Shabar-Mantra Sangrah(12 parts) 380.00 muje chaliye send me details on 9925039100

    उत्तर देंहटाएं
  22. उत्तर
    1. aap sadhana siddhi vigyaan ke bhopal office me 0755-4269368 par sampark kar len . time 10.00 am to 5.00pm (sunday off )

      हटाएं

आपके सुझावों के लिये धन्यवाद..
आपके द्वारा दी गई टिप्पणियों से मुझे इसे और बेहतर बनाने मे सहायता मिलेगी....
यदि आप जवाब चाहते हैं तो कृपया मेल कर दें . अपने अल्पज्ञान से संभव जवाब देने का प्रयास करूँगा.मेरा मेल है :-
dr.anilshekhar@gmail.com