4 फ़रवरी 2018

आनंद कंद भगवान् सदाशिव

भगवान शिव के समान :-

  • आनंदमय और निर्विकार रहने के लिए.
  • श्मशान में भी तटस्थ रहने की कला के लिए.
  • सर्व ऐश्वर्य के स्वामी होते हुए भी दिगंबर रहने के लिए .
और 

पास में कुछ भी न होते हुए भी निश्चिंत होकर मुस्कुराने के लिए .






निम्नलिखित मंत्र का उल्लास के साथ २४ घंटे जाप करते रहें धीरे धीरे आप आनंदमय कोष में प्रवेश करने लगेंगे .







||| आनंद कन्दाय नमः |||

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपके सुझावों के लिये धन्यवाद..
आपके द्वारा दी गई टिप्पणियों से मुझे इसे और बेहतर बनाने मे सहायता मिलेगी....
यदि आप जवाब चाहते हैं तो कृपया मेल कर दें . अपने अल्पज्ञान से संभव जवाब देने का प्रयास करूँगा.मेरा मेल है :-
dr.anilshekhar@gmail.com